बच्चों, बहुत खोजबीन के बाद, अचपन जी ने नन्हा मन पर उड़न तश्तरी उतारने में सफलता पाई ! देखा ? तो.. सी-बॉक्स में अपनी प्रतिक्रिया दो !

पढ़ने वाले भैय्या, अँकल जी और आँटी जी,
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल!
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल!
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल!
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल!
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल!
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल!
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !

nanhaman@gmail.com
पर
मेरे लिये कुछ लिख भेजिये, ना ..प्लीज़ !

प्यारे बच्चो , आपको और सभी भारतवासियों को आजादी की हार्दिक बधाई और शुभ-काम्नायें । स्वतंत्रता दिवस पर पढिए देश भक्ति की रचनाएं यहां ......

30 जनवरी 2009

बापू गाँधी , बापू के तीन बन्दर

नमस्कार बच्चो ,
आपको पता है आज ३० जनवरी को महात्मा गान्धी जी का शहीदी दिवस है उनका जन्म २ अक्तूबर १८६९ ई. को गुजरात के पोरबंदर शहर मे पिता कर्मचन्द तथा माता पुतली बाई के घर हुआ आपने अहिंसा के बल पर भारत को आजादी दिलाई ३० जनवरी १९४८ को आप नत्थु राम गोडसे की गोलियों का शिकार हुए और राम-राम कहते हुए गान्धी जी ने अपना शरीर छोडा उनकी समाधि दिल्ली राजघाट मे है जहां लोग उन्हें श्रधांजलि अर्पण करने जाते हैं आओ मै आपको उनके जीवन
के बारे मे कुछ और बताऊं


1. बापू गान्धी

भारत मां के सपूत महान
गान्धी कर्मचन्द की संतान
मोहन दास नाम था पाया
महा संस्कारों को अपनाया
राम भक्त और सत्यवादी
बिना लडे ले ली आजादी
अहिंसा का लेकर हथियार
बांटा मानवता का प्यार
रंग-भेद को दूर भगाया
सत्य का मार्ग अपनाया
करते बुराई का मूक विरोध
नही था मन मे कोई प्रतिशोध
बनो हरिश और श्रवण कुमार
थे गान्धी के उच्च विचार
विदेश मे रह कर की पडाई
वकालत की डिग्री भी पाई
भारत आकर कार्य सीखा
गए इक बार दक्षिण अफ्रीका
हुआ संग मे दुरव्यवहार
अंग्रेजो के तुच्छ विचार
काला कहकर उनको बुलाया
देश गुलाम का वासी बताया
धकेल दिया गाडी से बाहर
सोचा गान्धी ने अब जाकर
मेरे देश मे मै ही गुलाम
करना है कुछ ऐसा काम
जिससे हम आजाद हो जाएं
अंग्रेजों को घर से भगाएं
चलाया सत्याग्रह आन्दोलन
मानने लगे उनको भारतीजन
शान्ति का मार्ग अपनाया
भारतवासियों को समझाया
जिसको कभी उचित न जानो
ऐसी बात कभी न मानो
चाहे कितना भी हो विरोध
पर नही लाना मन मे क्रोध
न ही मन मे नफरत लाना
अहिंसा का मार्ग अपनाना
सागर तट पर नमक बनाया
अंग्रेजों को भी समझाया
गुलाम नहीं है हिन्दुस्तान
है यह ऐसा देश महान
राम-कृष्ण की धरती पावन
नही पल सकता यहां कोई दानव
बिन हथियार ही लड जाएंगे
देश की खातिर मर जाएंगे
जुल्म किसी पे नहीं करेंगे
पर न गुलामी भी सहेंगे
अनूठे ढंग से लडी लडाई
देने लगे अंग्रेज दुहाई
विलायती चीजों का बहिष्कार
बंद किया फिरंगी व्यापार
काता सूत बनाई खादी
सत्य कर्म से ली आजादी
बिन हथियार ही किया कमाल
ऐसा था भारत का लाल

*********************************

२. बापू के तीन बन्दर

मोहन दास कर्म चन्द गान्धी
दिलाई हमें जिसने आजादी
दिए उन्होंने नेक विचार
बांटो सब आपस मे प्यार
तीन बन्दरों का सुनो सन्देश
नही होगा फिर कभी क्लेष

देखो अब यह पहला बन्दर
उंगलियां डाली कान के अन्दर
बुराई किसी की कभी न सुनना
जो विरोध न जानो करना

आँखों को हाथों से छुपाया
दूसरे बन्दर ने बताया
देखो न कभी कोई बुराई
जो न कर सको अच्छाई

तीसरा मुँह पर उंगली रखकर
देता है सन्देश यह आकर
बुरी बात कोई कभी न बोलो
सोच समझ कर ही मुँह खोलो

जो इन पर हम करें विचार
बांट सकेन्गे हम भी प्यार
आओ इन्हें हम भी अपनाएं
जीवन को सुखमय बनायें

*******************************

5 पाठकों का कहना है :
रंजन का कहना है कि -
बहुत अच्छी..
January 30, 2009 4:35 PM
संगीता पुरी का कहना है कि -
अच्‍छा है....
January 30, 2009 9:49 PM
manu का कहना है कि -
सीमा जी,इन बंदरों से तो मैं कल मिल चुका हूँ........ये तो ..वोइच बन्दर हैं ना..?अब नीलम जी आअकर ये ना कहें के देखा क्या खूब पहचाना....अपने बंधुओं को.....
January 30, 2009 10:16 PM
neelam का कहना है कि -
मनु जी ,सीमा जी से गलती हो गई है ,जब आप अकेले ही काफ़ी हैं तो इन तीनो को यहाँ लगाने की जरूरत थी क्या ???????????????????????हमने तो बचपन में गाना सुना था न देख बुरा ,न सुन बुरा ,न बोल बुरा हम तो बोलेंगे ,आप पहले वाले बन्दर बन जाईये प्लीज ,इन बंदरों की टोपी कहाँ है ,देखिये लालच बुरी बला है
January 31, 2009 11:24 AM
manu का कहना है कि -
क्या सीमा जी, आपके यहाँ कमेन्ट करने आ जाते हैं और देखिय ...क्या गत बनाई जाती है अपनी......
February 2, 2009 9:03 AM

3 पाठकों का कहना है :
manu का कहना है कि -
कल बापू का शहीदी दिवस है...नमन है गांधी जी को ....बापू को..पर लोग याद रख ने के अलावा...उस शहादत की वजह भी समझ लें ...गहराइयों तक जान भी लें तो कितना अछा हो जाए.....बंदर भी जाने क्या क्या समझा जाते हैं इंसान को............
January 29, 2009 11:24 PM
सीमा सचदेव का कहना है कि -
सही कहा आपने मनु जी बन्दर भी न जाने क्या क्या सिखा जाते है आज से हम भी गाँधी जी के पद-चिह्नों पर चलेंगे और जो कहना होगा वो बातो से नही व्यवहारिक रूप से कहेंगे
January 30, 2009 11:30 AM
neelam का कहना है कि -
जिसको कभी उचित न जानोऐसी बात कभी न मानोचाहे कितना भी हो विरोधपर नही लाना मन मे क्रोधन ही मन मे नफरत लानाअहिंसा का मार्ग अपनानाkaash ki krodh hi khatam ho jaaye ,gusse wala element hi banana band ho jaaye to kitna achcha ho ,bus aap apna kaam karen nahi kisi pe gussa kare ,rosh n ho to dosh bhi n honge sabse achche hum sab honge sabse achche hum sab honge seema ji aapki sohbat ka asar hai ye ,achchi jaankaari ke liye shukriya
January 31, 2009 11:46 AM

2 जन ने कहा है:

makrand ने कहा…

bahut acchi baat

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर.
धन्यवाद

एक टिप्पणी भेजें

कैसा लगा.. अच्छा या बुरा ?
कुछ और भी चाहते हैं, आप..
तो बताइये ना, हमें !

देखिये, आपके चुनाव के विकल्प !

सीमा सचदेव (175) बाल-कविता (111) आचार्य संजीव 'सलिल' (35) बाल-कथाकाव्य (34) विशेष दिन-विशेष सामग्री (28) त्योहार (25) हितोपदेश (23) रावेंद्रकुमार रवि (19) कहानी (16) खेल गीत (15) काम की बातें-शृंखला (14) बन्दर की दुकान (14) बाल-उपन्यास (14) acharya sanjiv 'salil' (10) आकांक्षा यादव (10) डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ (10) acharya sanjiv verma 'salil' (9) samyik hindi kavita (9) आलेख (9) चित्रावली (8) पर्यावरण दिवस (8) प्रतीक घोष (8) बालगीत (8) मदर्स डे (8) रंग-रंगीली होली (8) contemporary hindi poetry. (7) रामेश्वरम कम्बोज हिमांशु (7) श्रव्य-दृश्य (7) india (6) jabalpur (6) अचपन जी की बातें (6) बाल गीत (6) सोमाद्रि शर्मा (6) स्वतंत्रता दिवस (6) डा. अमर कुमार (5) निर्मला कपिला (5) बाल-उपन्यास-चूचू और चिण्टी (5) baal kavita (4) गणतंत्र दिवस (4) जीव बचाओ अभियान (4) फ़ादर्स डे (4) बाल काव्यकथा (4) संजीव 'सलिल' (4) हेमन्त कुमार (4) doha (3) hindi chhand (3) कवि कुलवंत सिंह (3) दादी मां की कहानियां (3) नवरात्र (3) बसंत पंचमी (3) बाघ बचाओ अभियान (3) बालगीत। (3) मंजु गुप्ता (3) महीनों के नाम (3) शिशुगीत (3) bal geet (2) bal kavita (2) conteporary hindi poetry (2) hindi (2) kisoron ke liye (2) maa (2) navgeet (2) अक्कड़-बक्कड़ (2) अजय कुमार झा (2) आओ सुनाऊं एक कहानी (2) आवाज (2) एनीमेशन (2) कवियत्री पूनम (2) गणेशोत्सव (2) झूमो नाचो गाओ। (2) झूले लाल (2) डा. अनिल सवेरा (2) दीवाली (2) पाखी की दुनिया (2) बचपन के गीत (2) बि‍ल्‍ली बोली म्‍याउं म्‍याउं (2) बूझो तो जाने (2) महा-शिवरात्रि (2) रचना श्रीवास्तव (2) रश्मि प्रभा (2) रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’ (2) विश्व जल दिवस (2) शुभम सचदेव (2) सरस्वती वंदना (2) साक्षी (2) सैर-सपाटा (2) 'शुभ प्रभात' (1) aam (1) alankar (1) anushka (1) baal geet (1) baalgeet (1) baigan (1) bal kacita (1) balgeet (1) baniyan tree (1) bargad (1) barsat (1) barse pani (1) bhagvwan (1) bharat mata (1) bhata (1) bimb (1) birds (1) bitumen (1) brinjal (1) buddhoobaksa (1) bulbul (1) chhand (1) chidiya (1) chooja (1) chuapaee (1) construction (1) damal (1) devi (1) dharti (1) door darshan (1) ganesh (1) gau (1) gauraiya (1) gudda (1) gudiya (1) hindi lyric (1) idiot box (1) imulsion (1) kaam (1) kaar (1) katha-geet (1) koyal (1) langadi (1) mango (1) marg (1) mother. (1) nirman (1) nursary rhyma (1) nursary rhyme (1) nursary rhyme in hindi (1) pakhee ki billee (1) paver (1) poem for kids (1) poetry for kids (1) ras (1) rasal. (1) road (1) roller (1) sadak (1) samyik hindi bal sahitya (1) samyik hindi geet (1) sanjiv 'salil' (1) sanjiv 'salil'. (1) saraswati (1) shishu geet (1) television (1) varsha (1) zindagi (1) अच्छा बच्चा (1) अब्राहम लिंकन का पत्र (1) आदित्य (1) आप बन सकते हैं नन्हामन के सदस्य (1) आशी (1) इंदु पुरी (1) इक चूहे नें बिल्ली पाली (1) इक जंगल में लग गई आग (1) कमला भसीन (1) कम्पुटर का युग (1) कहानी एक बुढ़िया की (1) कहानी:घर की खोज (1) कान्हा की बाल-लीलाएं (1) कान्हा की बाल-लीलाएं-2 (1) कान्हा की बाल-लीलाएं-3 (1) कान्हा की बाल-लीलाएं-4 (1) कान्हा की बाल-लीलाएं-5 (1) कान्हा की बाल-लीलाएं-6 (1) काला-पानी की कहानी (1) गधे नें बसता एक लिया (1) गधे नें सीख लिया कंप्यूटर (1) गुरु रविदास ज्यंती (1) गोवर्धन पूजा (1) चंदा मामा। (1) चन्द्र प्रकाश मित्तल (1) चिंटू-मिंटू (1) चित्र/पेंटिंग (1) चिड़िया (1) चूँ चूँ चिड़िया चुन दाना (1) चूहा बिल्ली दोस्त बने (1) ज्ञान कुमार (1) झाँसी की रानी (1) झूमें नाचें गायें (1) झूमो नाचो गाओ (1) टूथब्रश की दुनिया (1) डा0 डंडा लखनवी (1) ढपोलशंख की सुनो कहानी (1) दोहे (1) धन तेरस (1) नन्ही-मुन्नी कहानियां (1) नम भूमि दिवस (1) नरक चतुर्दशी (1) नव गीत (1) नाचा मोर (1) नाना जी की मूंछ (1) निखिल कुमार झा (1) पहुंचा शेर शहर में (1) पाखी की बिल्ली (1) पूनम। (1) बचपन (1) बाघ बडा फ़ुर्तीला है (1) बाल सजग (1) बाल-रचना प्रतियोगिता - 2 (1) बाल-श्रम (1) बुद्ध पूर्णिमा (1) भजन (1) भैया दूज (1) मकर संक्रान्ति (1) मदर टेरेसा (1) महात्मा ईसा की कहानी (1) महात्मा गान्धी (1) महेश कुश्वंश (1) मीनाक्षी धंवंतरि (1) मुन्ना :मेरा दोस्त (1) मेरे कपड़े (1) मैं गणेश (1) यह है देश हमारा (1) ये भी तो कुछ कहते हैं----- (1) रक्षा बंधन (1) राम-नवमी (1) रिमझिम (1) लंगडी खेलें..... (1) लोहडी (1) वर्णमाला (1) विजय तिवारी " किसलय " (1) विश्व जल दिवस नारे (1) वैसाखी का मेला (1) व्याकरण (1) शिशु गीत (1) शिशु गीत सलिला : 2 (1) शेर और कुत्ता (1) शैलेश कुमार पांडे (1) श्री गुरु गोबिन्द सिंह जी (1) श्री गुरु नानक देव जी (1) श्वेता ढींगरा (1) सतरंगे बादल (1) समीर लाल समीर (1) साक्षरता अभियान (1) सोन चिरैया (1) हाइटेक चूहे (1) हिन्दी दिवस (1)
टेम्प्लेट परिकल्पना एवँ अनुकूलन :डा.अमर कुमार 2009