बच्चों, बहुत खोजबीन के बाद, अचपन जी ने नन्हा मन पर उड़न तश्तरी उतारने में सफलता पाई ! देखा ? तो.. सी-बॉक्स में अपनी प्रतिक्रिया दो !

पढ़ने वाले भैय्या, अँकल जी और आँटी जी,
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल!
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल!
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल!
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल!
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल!
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल!
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !
आप सब को नन्हें मन का नमस्ते.. प्रणाम.. सत श्री अकाल !

nanhaman@gmail.com
पर
मेरे लिये कुछ लिख भेजिये, ना ..प्लीज़ !

प्यारे बच्चो , आपको और सभी भारतवासियों को आजादी की हार्दिक बधाई और शुभ-काम्नायें । स्वतंत्रता दिवस पर पढिए देश भक्ति की रचनाएं यहां ......

30 मार्च 2010

सुबह का जो छूट गया, हुआ शाम को बेड़ा पार

देखो तो जरा..
मैंनें सोचा कुछ और.. यहाँ हुआ कुछ और ही !
मुम्बई से मेरी बेटी आ गयी, और मैं तुम सब से किया अपना वादा भूलते भूलते बचा । वादा करने तोड़ देना गँदी बात होती है, न ? लेकिन मैं तो बच गया । तो हमारी बात यहाँ रुक गयी, कि...
भगवान जी अपने चक्र, गदा वगैरह वगैरह लेकर भला कैसे आ सकते हैं, वह तो किसी आदमी का भेष बना कर ही तो आयेंगे । तो, उन्होंनें आकाश से आवाज़ लगायी, कि तुम सब जन परेशान मत होना, मैं आऊँगा और सबको बचा लूँगा ।

यह सुन सभी सँतुष्ट होकर अपने अपने घर चले गये । कुछ ही हफ़्तों में ... चैत्र महीने की दूसरी तारीख को नसरपुर गाँव के रतनराय के घर एक बालक का जन्म हुआ । इसीलिये इस तिथि को सिन्धी अपना नववर्ष चेती-चाँद या चैटीचण्ड उत्सव से मनाते हैं ।450px-Jhule_Lal
यह  बड़े ही असाधारण बालक थे, नाम रखा उसका, उदय चन्द्र ! कुछ बड़े होते ही 11 वर्ष की उम्र से उदय चन्द्र अत्याचारों का विरोध करने लगे । उअनको लगा कि बातों से बात नहीं बननी है, तो अपने पिता रतनराय से कुछ धन लेकर एक छोटी सी सेना बनायी । इनकी सेना कुछ कुछ छापामार दस्ते की तरह  थी । जहाँ कहीं परेशानी हुई, कोई लूट-पाट जोर-जबरदस्ती हो रही होती.. उदय चन्द्र अपने सिपाहियों के साथ  चट से पहुँच जाते । फिर तो कई छोटे छोटे राजाओं ने भी अपनी सेनायें इनकी सहायता को लगा दीं । अब तो मर्खशाह जी कौनके नाम से कँपकँपी छूटने लग पड़ी ।

इनके सिपाही इतने फुर्तीले थे कि लोग इन्हें झाटी कहते थे । समझ रहे हो ना.. झाटी माने झपट्टा मारने वाला, दुश्मनों को झटका देने वाला । इधर उदयराज जी 16 वर्ष के हो चले थे.. उनकी झूमती हुई मस्त चाल लोग देखते ही रह जाते । अपने तेज रफ़्तार घोड़े पर नियँत्रण रखने को, और दुश्मनों के वार को बचाने को यह इतनी तेजी से अपने घोड़े पर झूल जाते कि लोग इनको प्यार से झूले लाल कहने लगे.. बल्कि कुछ जन तो इनकी पूजा भी करने लगे ।

जब वह दुःख में फँसे लोगों के गाँव पहुँचते तो,  नारा लगा्ते हुये सूचना देते.. आयो लाल ! जरा सोचो कि जनता इस पर खुशी से चिल्ला पड़ती .. झूलेलाल ! इस तरह उन दिनों आयोलाल - झूलेलाल एक सार्थक नारा, विजय का एक नारा बन गया । मर्खशाह जी अब घबड़ाये, इनको समझौते के बुलाया । इन्होंने उससे सीधे सीधे कहा, " देख भाई तू बादशाह होगा यह और बात है । पहली बात तो यह कि ईश्वर एक है, सभी उस तक जाना चाहते हैं । लोगों ने अपने अलग अलग रास्ते चुने हैं । तू अपनी राह चलता जा, मैं अपनी राह चलूँ । यह एक रास्ते की भीड़ में घुसने से तो अच्छा है ।  उस तक पहुँचने में कौन किस रास्ते से कामयाब होता है, यह तेरा सिरदर्द नहीं है । हमको इसकी आज़ादी चाहिये, और वह तुझे देनी पड़ेगी ।"

अब बताओ भला, जो बात तु्म्हारे नन्हें मन में आसानी से समझ आ गयी.. वही बात इन श्रीमान जी को समझ में नहीं आयी । वह उल्टे अकड़ने लगे । झूलेलाल जी ने मन में एक फैसला किया, और लौट आये । आते ही उन्होंनें सबसे विचार किया और सिन्धु नदी के रास्ते से बदशाह जी पर हमला बोल दिया । साथ ही ज़मीन की तरफ़ से भी उनके सैनिकों को घेर लिया । बहुत लड़ाई करने की नौबत ही नहीं आयी, डरपोक बदाशाह भाई की हेकड़ी निकल गयी और वह हार मान कर झूलेलाल से रहम के लिये गिड़गिड़ाने लगे, बोले " हे ज़िन्दा पीर, हमसे गलती हुई हमें माफ़ कर दो ।"

उनको माफ़ कर दिया गया । सिन्ध में रहने वाले सभी धर्म के लोग इनको अपनी अपनी तरह से पूजने लगे । यह उनको सच्चाई और न्याय का उपदेश दिया करते थे । जब भी कोई सँकट आता.. लोग कहते, " झूलेलाल .. बेड़ापार !" अब तो यह नमस्ते का एक सिन्धी रिवाज़ बन गया है,  वडि झूलेलाल का ज़वाब होता है आहो बेड़ापार ! उनके सम्मान में यह लोग एक दूसरे को साँई कहते हैं ।

अरे रे रे, कोई पूछ रहा है कि यह मछली पर क्यों बैठे हैं ? ठीक, वह ऎसा है कि पाली नाम की यह मछली पानी की उल्टी धारा में  अपना रास्ता बनाते हुये चलती है, हार नहीं मानती । इससे सीख लेकर झूलेलाल जी ने इसको अपने ज़हाज़ों का पहचान चिन्ह बना दिया था । इसके सिन्धु नदी से जुड़े होने और झूलेलाल जी को जल के देवता ( वरूण देव ) का अवतार मानने से इस मछली को उनकी सवारी के रूप में दिखाया जाता है ।

इनको लाल साँई, उडेरोलाल, दूल्हालाल, ज़िन्दा पीर भी कहते हैं । और हाँ, इन्होंने इस दुनिया से विदा लेने से पहले ही कह दिया था कि इनका मँदिर हिन्दू, मुस्लिम और दुनिया के सभी धर्म के लोगों के लिये खुला रहेगा । तो ऎसे थे झूलेलाल .. आहो बेड़ापार !

और..यहाँ मैंनें देखा कि वैभव जी इतने ध्यान से सुन रहे थे कि उन्हें ध्यान भी न रहा कि उनके खुले हुये मुँह से लार टपकी पड़ रही है । बहुत छोटा है, मेरा वैभव ! लेकिन जया.. उसने खट से एक सवाल दाग दिया, " लेकिन आपको.. मेरा मतलब कि आपको यह बातें कैसे पता ?" लीजिये जैसे कि मैं कोई गप्प हाँक रहा था.. अरे आप लोग नेट पर इधर उधर सर्फ़िंग करते रहते हैं,  1. मैं अपना टाइम वेस्ट नहीं करता..  2.यह सब यहीं से तो पढ़ा है !

धन्यवाद सबको, अगले महीने की तीस को मिलते हैं, असलियत की एक नयी स्टोरी के साथ । जय हिन्द !

3 जन ने कहा है:

Udan Tashtari ने कहा…

डॉक्टर साहब को प्रणाम..बढ़िया कथा रही. अब अगले महिने ३० तारीख को!!

Amitraghat ने कहा…

बढ़िया........."

सीमा सचदेव ने कहा…

आपकी कथा और कहने का अंदाज़ दोनों ही मन को छू गए । एक नई जानकारी और वो भी इतने प्यारे अंदाज़ में .....अब तो हमें आपकी अगली पोस्ट का इंतज़ार है । धन्यवाद....सीमा सचदेव

एक टिप्पणी भेजें

कैसा लगा.. अच्छा या बुरा ?
कुछ और भी चाहते हैं, आप..
तो बताइये ना, हमें !

देखिये, आपके चुनाव के विकल्प !

सीमा सचदेव (175) बाल-कविता (111) आचार्य संजीव 'सलिल' (35) बाल-कथाकाव्य (34) विशेष दिन-विशेष सामग्री (28) त्योहार (25) हितोपदेश (23) रावेंद्रकुमार रवि (19) कहानी (16) खेल गीत (15) काम की बातें-शृंखला (14) बन्दर की दुकान (14) बाल-उपन्यास (14) acharya sanjiv 'salil' (10) आकांक्षा यादव (10) डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’ (10) acharya sanjiv verma 'salil' (9) samyik hindi kavita (9) आलेख (9) चित्रावली (8) पर्यावरण दिवस (8) प्रतीक घोष (8) बालगीत (8) मदर्स डे (8) रंग-रंगीली होली (8) contemporary hindi poetry. (7) रामेश्वरम कम्बोज हिमांशु (7) श्रव्य-दृश्य (7) india (6) jabalpur (6) अचपन जी की बातें (6) बाल गीत (6) सोमाद्रि शर्मा (6) स्वतंत्रता दिवस (6) डा. अमर कुमार (5) निर्मला कपिला (5) बाल-उपन्यास-चूचू और चिण्टी (5) baal kavita (4) गणतंत्र दिवस (4) जीव बचाओ अभियान (4) फ़ादर्स डे (4) बाल काव्यकथा (4) संजीव 'सलिल' (4) हेमन्त कुमार (4) doha (3) hindi chhand (3) कवि कुलवंत सिंह (3) दादी मां की कहानियां (3) नवरात्र (3) बसंत पंचमी (3) बाघ बचाओ अभियान (3) बालगीत। (3) मंजु गुप्ता (3) महीनों के नाम (3) शिशुगीत (3) bal geet (2) bal kavita (2) conteporary hindi poetry (2) hindi (2) kisoron ke liye (2) maa (2) navgeet (2) अक्कड़-बक्कड़ (2) अजय कुमार झा (2) आओ सुनाऊं एक कहानी (2) आवाज (2) एनीमेशन (2) कवियत्री पूनम (2) गणेशोत्सव (2) झूमो नाचो गाओ। (2) झूले लाल (2) डा. अनिल सवेरा (2) दीवाली (2) पाखी की दुनिया (2) बचपन के गीत (2) बि‍ल्‍ली बोली म्‍याउं म्‍याउं (2) बूझो तो जाने (2) महा-शिवरात्रि (2) रचना श्रीवास्तव (2) रश्मि प्रभा (2) रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’ (2) विश्व जल दिवस (2) शुभम सचदेव (2) सरस्वती वंदना (2) साक्षी (2) सैर-सपाटा (2) 'शुभ प्रभात' (1) aam (1) alankar (1) anushka (1) baal geet (1) baalgeet (1) baigan (1) bal kacita (1) balgeet (1) baniyan tree (1) bargad (1) barsat (1) barse pani (1) bhagvwan (1) bharat mata (1) bhata (1) bimb (1) birds (1) bitumen (1) brinjal (1) buddhoobaksa (1) bulbul (1) chhand (1) chidiya (1) chooja (1) chuapaee (1) construction (1) damal (1) devi (1) dharti (1) door darshan (1) ganesh (1) gau (1) gauraiya (1) gudda (1) gudiya (1) hindi lyric (1) idiot box (1) imulsion (1) kaam (1) kaar (1) katha-geet (1) koyal (1) langadi (1) mango (1) marg (1) mother. (1) nirman (1) nursary rhyma (1) nursary rhyme (1) nursary rhyme in hindi (1) pakhee ki billee (1) paver (1) poem for kids (1) poetry for kids (1) ras (1) rasal. (1) road (1) roller (1) sadak (1) samyik hindi bal sahitya (1) samyik hindi geet (1) sanjiv 'salil' (1) sanjiv 'salil'. (1) saraswati (1) shishu geet (1) television (1) varsha (1) zindagi (1) अच्छा बच्चा (1) अब्राहम लिंकन का पत्र (1) आदित्य (1) आप बन सकते हैं नन्हामन के सदस्य (1) आशी (1) इंदु पुरी (1) इक चूहे नें बिल्ली पाली (1) इक जंगल में लग गई आग (1) कमला भसीन (1) कम्पुटर का युग (1) कहानी एक बुढ़िया की (1) कहानी:घर की खोज (1) कान्हा की बाल-लीलाएं (1) कान्हा की बाल-लीलाएं-2 (1) कान्हा की बाल-लीलाएं-3 (1) कान्हा की बाल-लीलाएं-4 (1) कान्हा की बाल-लीलाएं-5 (1) कान्हा की बाल-लीलाएं-6 (1) काला-पानी की कहानी (1) गधे नें बसता एक लिया (1) गधे नें सीख लिया कंप्यूटर (1) गुरु रविदास ज्यंती (1) गोवर्धन पूजा (1) चंदा मामा। (1) चन्द्र प्रकाश मित्तल (1) चिंटू-मिंटू (1) चित्र/पेंटिंग (1) चिड़िया (1) चूँ चूँ चिड़िया चुन दाना (1) चूहा बिल्ली दोस्त बने (1) ज्ञान कुमार (1) झाँसी की रानी (1) झूमें नाचें गायें (1) झूमो नाचो गाओ (1) टूथब्रश की दुनिया (1) डा0 डंडा लखनवी (1) ढपोलशंख की सुनो कहानी (1) दोहे (1) धन तेरस (1) नन्ही-मुन्नी कहानियां (1) नम भूमि दिवस (1) नरक चतुर्दशी (1) नव गीत (1) नाचा मोर (1) नाना जी की मूंछ (1) निखिल कुमार झा (1) पहुंचा शेर शहर में (1) पाखी की बिल्ली (1) पूनम। (1) बचपन (1) बाघ बडा फ़ुर्तीला है (1) बाल सजग (1) बाल-रचना प्रतियोगिता - 2 (1) बाल-श्रम (1) बुद्ध पूर्णिमा (1) भजन (1) भैया दूज (1) मकर संक्रान्ति (1) मदर टेरेसा (1) महात्मा ईसा की कहानी (1) महात्मा गान्धी (1) महेश कुश्वंश (1) मीनाक्षी धंवंतरि (1) मुन्ना :मेरा दोस्त (1) मेरे कपड़े (1) मैं गणेश (1) यह है देश हमारा (1) ये भी तो कुछ कहते हैं----- (1) रक्षा बंधन (1) राम-नवमी (1) रिमझिम (1) लंगडी खेलें..... (1) लोहडी (1) वर्णमाला (1) विजय तिवारी " किसलय " (1) विश्व जल दिवस नारे (1) वैसाखी का मेला (1) व्याकरण (1) शिशु गीत (1) शिशु गीत सलिला : 2 (1) शेर और कुत्ता (1) शैलेश कुमार पांडे (1) श्री गुरु गोबिन्द सिंह जी (1) श्री गुरु नानक देव जी (1) श्वेता ढींगरा (1) सतरंगे बादल (1) समीर लाल समीर (1) साक्षरता अभियान (1) सोन चिरैया (1) हाइटेक चूहे (1) हिन्दी दिवस (1)
टेम्प्लेट परिकल्पना एवँ अनुकूलन :डा.अमर कुमार 2009